EWS आरक्षण पर सुप्रीम कोर्ट का ऐतिहासिक फैसला, 3:2 के बहुमत से केंद्र सरकार की बड़ी जीत

By Reeta Tiwari | Posted on 7th Nov 2022 | देश
Supreme Court on EWS

EWS आरक्षण पर सुप्रीम कोर्ट का ऐतिहासिक फैसला

देश के उच्च न्यायलय यानि की सुप्रीम कोर्ट ने economically weaker section (EWS) आरक्षण कोटा ऐतिहासिक फैसला सुनाया है। सुप्रीम कोर्ट ने सामान्य वर्ग के आर्थिक रूप से कमजोर लोगों को 10 फीसदी आरक्षण के प्रावधान को बरकरार रखने का फैसला किया है। उच्च न्यायलय के 5 जजों की पीठ में से 3 जजों ने संविधान के 103 वें संशोधन अधिनियम 2019 को सही माना है। सुप्रीम कोर्ट में इसे मोदी सरकार की बड़ी जीत मानी जा रही है। 

Also read- क्या है EWS आरक्षण ? क्यों हो रहा है इस पर बवाल ? क्या ख़त्म हो सकता है EWS Reservation ?

मोदी सरकार के लिए है जीत 

दरअसल, 2019 में केंद्र सरकार ने संविधान में संशोधन करते हुए सामान्य वर्ग के आर्थिक रूप से कमजोर लोगों को 10 फीसदी आरक्षण देने की सुविधा बनाई थी। आरक्षण का प्रावधान करने वाले 103वें संविधान संशोधन को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई थी की ये संविधान  ढांचे के खिलाफ है। 5 जजों की बेंच में से 3 जज, जस्टिस दिनेश माहेश्वरी, जस्टिस बेला त्रिवेदी और जस्टिस जेबी पारदीवाला ने EWS आरक्षण के समर्थन में फैसला सुनाया वहीं दूसरी तरफ चीफ जस्टिस यूयू ललित और जस्टिस रविंद्र भट्ट ने EWS आरक्षण पर असहमति जताई है। 

EWS संविधान के बुनियादी ढांचे का उल्लंघन नहीं

EWS के सर्थन में आये जजों ने कहा कि EWS कोटे से संविधान के बुनियादी ढांचे का उल्लंघन नहीं होता है। इसके साथ ही इस EWS आरक्षण के खिलाफ याचिकाओं को खारिज कर दी गई।  EWS कोटा के समर्थन में जजों ने कहा कि ये आरक्षण का सुविधा धर्म, जाति, वर्ग, लिंग या जन्म स्थान के आधार पर और सार्वजनिक रोजगार में समान अवसर के अधिकार का उल्लंघन नहीं कर रहा है। 

CJI ने जताई असहमति 

वहीं दूसरी तरफ जस्टिस रविंन्द्र भट्ट ने कहा कि ये 10% रिजर्वेशन में से एससी/एसटी/ ओबीसी को अलग करना भेदभाव है। CJI ललित ने इसे असंवैधानिक करार दिया और जबकि जस्टिस एस रवींद्र भट्ट ने भी असहमति जताते हुए इसे अंसवैधानिक करार दिया और कहा कि संविधान का ये 103 वां संशोधन भेदभाव पूर्ण है। दोनों जजों ने बहुमत के फैसले पर असहमति जताई है।

Also read- Elon Musk Vs Twitter: निकाले गए कर्मचारियों को वापस बुला रही है ट्विटर, पूर्व CEO डोर्सी ने भी मांगी माफ़ी

Reeta Tiwari
Reeta Tiwari
रीटा एक समर्पित लेखक है जो किसी भी विषय पर लिखना पसंद करती है। रीटा पॉलिटिक्स, एंटरटेनमेंट, हेल्थ, विदेश, राज्य की खबरों पर एक समान पकड़ रखती हैं। रीटा नेड्रिक न्यूज में बतौर लेखक काम करती है।

Leave a Comment:
Name*
Email*
City*
Comment*
Captcha*     8 + 4 =

No comments found. Be a first comment here!

अन्य

प्रचलित खबरें

© 2022 Nedrick News. All Rights Reserved.