भारत में बैन, फिर भी लोग जमकर देखते हैं पोर्न फिल्में! जानिए अश्लील कंटेंट देखने के मामले में कौन-सा शहर टॉप पर?

By Ruchi Mehra | Posted on 20th Jul 2021 | रोचक किस्से
porn ban india, raj kundra

भारत में पोर्न को लेकर एक बार फिर चर्चाएं शुरू हो गई है। ऐसा बड़े बिजनेसमैन राज कुंद्रा की गिरफ्तारी के बाद हुआ। एक्ट्रेस शिल्पा शेट्टी के पति राज कुंद्रा को मुंबई की क्राइम ब्रांच पुलिस ने मंगलवार रात को अरेस्ट किया, लेकिन उनकी गिरफ्तारी जिन आरोपों में हुई, वो काफी चौंका देने वाले थे। 

पोर्नग्राफी मामले में फंसे राज

राज पर पोर्नोग्राफिक कंटेट बनाने और उसका प्रचार करने के आरोप लगे। आरोप है कि अश्लील फिल्में बनाकर उन्हें एक ऐप पर डाला जाता था और तमाम सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर इनका प्रचार भी होता था। इस मामले में पुलिस ने फरवरी में केस दर्ज किया था और कई लोगों से पूछताछ की, जिसमें राज कुंद्रा नाम भी निकलकर सामने आया। फिलहाल कोर्ट ने 23 जुलाई तक पुलिस कस्टडी में भेज दिया है। 

चोरी-छिपे लोग देखते हैं पोर्न

राज कुंद्रा की गिरफ्तारी का ये मामला इस वक्त सुर्खियों में बना हुआ है। वहीं इसको लेकर भारत में पोर्न बैन होने के सवालों पर भी चर्चाएं शुरू हो गई हैं। देश में आधिकारिक तौर पर पोर्न बैन है। लेकिन इस बात से भी इनकार नहीं किया जा सकता कि बैन होने के बावजूद पोर्न इंडस्ट्री का ये कारोबार भारत में विदेशों की तरह ही फल फूल रहा है और अब बड़े बड़े लोग भी इससे जुड़ने लगे हैं।  

भले ही देश में पोर्न की कुछ नामी वेबसाइट नहीं चलती। फिर भी यहां लोग खूब पोर्न फिल्में देखते हैं। पोर्न इंडस्ट्री काफी बड़ी हैं। बात भारत की करें तो साल 2018 के आंकड़ों के अनुसार सबसे ज्यादा पोर्न देखने के मामले में भारत तीसरे नंबर पर आता है। इससे पहले यूएस और यूके हैं। भारत सरकार ने जब पोर्न पर बैन लगाया तो ये देश 15वें नंबर पर आ गया था। 

साल 2018 की Pronhub की एक रिपोर्ट के अनुसार ग्लोबली एक पोर्न की वेबसाइट पर विजिटर का एवरेज 10 मिनट 13 सेकेंड होता है। ये एवरेज भारत में 8 मिनट 23 सेकेंड का है। जिसका मतलब ये है कि भारत में एक शख्स पर जब किसी पोर्न साइट पर जाता है, तो करीब करीब इतने वक्त बिताता है। 

इस मामले में दिल्ली पहले नंबर पर

वहीं देशभर में से राजधानी दिल्ली में सबसे ज्यादा पोर्न देने की बात भी रिपोर्ट में कही गई थीं। रिपोर्ट के मुताबिक सबसे ज्यादा 39 प्रतिशित ट्रैफिक दिल्ली से है। यानी यहां के लोग सबसे अधिक पोर्न देखते हैं। दिल्ली वालों का पोर्न देखने का एवरेज 9 मिनट 29 सेकेंड है। पिछले साल 2020 में जब देश में कोरोना महामारी की वजह से लॉकडाउन लगा, तो पोर्न देखने वालों की संख्या में बढ़ोत्तरी भी देखने को मिली। रिपोर्ट्स के अनुसार अप्रैल 2020 में भारत में पोर्न साइट के ट्रैफिक में 95 प्रतिशत का इजाफा देखने को मिला। 

बैन होने के बावजूद ऐसे देखी जाती है पोर्न

अब इस बीच एक बड़ा सवाल ये भी आ रहा है कि जब देश में पोर्न पर आधिकारिक तौर पर बैन लगा हुआ है, तो लोग कैसे इसे देख लेते हैं? 

इसके लिए एक अलग टेक्निक का इस्तेमाल किया जाता है। सरकार के आदेश के अनुसार भले ही तमाम टेलीकॉम कंपनी अपने नेटर्वक पर पोर्न साइट्स को बैन कर चुकी हो, लेकिन यूजर्स मिरर डोमेन यानी URL में थोड़ा बदलाव करके इसे देख सकते हैं। 

इसके बारे में आपको उदाहरण देकर समझाए। तो मान लीजिए, अगर किसी पोर्न साइट के डोमेन x.com को बैन किया गया है, तो यूजर्स उसको x.net पर देख सकते हैं। इस पर भी वो ही कंटेंट मिलेगा, जो मेन डोमेन पर होता है। इस तरह से बैन होने के बावजूद भी भारत में पोर्न जमकर देखा जाता है। 

तो क्या पोर्न देखना है जुर्म?

इसके अलावा एक सवाल ये भी आता है कि क्या भारत में पोर्न देखना अपराध है? अगर कोई व्यक्ति पोर्न देखता है, तो क्या उसे सजा हो सकती है? इसका जवाब है...नहीं। अगर कोई व्यक्ति अपनी निजी डिवाइस पर इस तरह के कंटेंट देखता है, तो ये जुर्म नहीं। हां, लेकिन अगर बात चाइल्ड पोर्नोग्राफी की हो, तो इसे देखना भी अपराध है। 

इसके अलावा किसी को जबरदस्ती अश्लील फिल्म बनाने या देखने के लिए कहना अपराध की श्रेणी में आता है। साथ ही किसी भी व्यक्ति को उसकी मर्जी के बिना ना अश्लील कंटेंट भेजा और दिखाया भी नहीं जा सकता हैं। ऐसा करने पर सजा हो सकती है। पोर्नोग्राफी को लेकर जो देश का कानून है उसके मुताबिक 5 से 7 सालों तक की सजा और जुर्माने का प्रावधान है। 

Ruchi Mehra
Ruchi Mehra
रूचि एक समर्पित लेखक है जो किसी भी विषय पर लिखना पसंद करती है। रूचि पॉलिटिक्स, एंटरटेनमेंट, हेल्थ, विदेश, राज्य की खबरों पर एक समान पकड़ रखती हैं। रूचि को वेब और टीवी का कुल मिलाकर 3 साल का अनुभव है। रुचि नेड्रिक न्यूज में बतौर लेखक काम करती है।

अन्य

लाइफस्टाइल

© 2020 Nedrick News. All Rights Reserved. Designed & Developed by protocom india