जानिए कौन थी रमाबाई ? जो बनी संविधान निर्माता डॉ. भीमराव आंबेडकर के सफल जिंदगी की प्रेरणास्रोत

By Reeta Tiwari | Posted on 20th Jan 2023 | इतिहास के झरोखे से
ramabai Ambedkar

रमाबाई अंबेडकर का पूरा जीवन परिचय

कहते हैं हर सफल इंसान के पीछे एक औरत का हाथ होता है और इस बात को समाज की नारियों ने सच भी साबित किया है। ऐसे ही संविधान निर्माता डॉ. भीमराव आंबेडकर की सफल जिंदगी और उनकी परछाई बनी उनकी पत्नी रमाबाई अम्बेडकर भी थी। जो चुपचाप हमारे संविधान के निर्माता को समर्थन देने के लिए दृढ़ थीं, जबकि वह विनम्रता, व्यवहार और करुणा की प्रतीक थीं। आज से पहले शायद ही कुछ लोग इनको जानते होंगे लेकिन जब बात नारी शक्तीकरण की आती है तब रमाबाई का नाम उसमे सबसे ऊपर आता है. रमाबाई भीमराव अम्बेडकर सामाजिक न्याय के अग्रदूत डॉ. भीमराव अम्बेडकर के लिए सबसे बड़ी प्रेरणाओं में से एक रही हैं। मुख्य रूप से कन्नड़ और मराठी में बनी फिल्मों के अलावा उनके बारे में न के बराबर लिखा गया है। आज के समय में, उन महिलाओं पर योग्य प्रकाश डालना महत्वपूर्ण है, जो पुरुषों को प्रेरित करने में आवश्यक हैं, जिनकी हम आज प्रशंसा करते हैं। उन्हें आज रमई या माँ राम के रूप में याद किया जाता है। 

शुरूआती जीवन 

रमाबाई आंबेडकर जी का जन्म 7 फरवरी 1898 में हुआ था उनके माता पिता  का नाम रुक्मणी देवी और भाकू दात्रे वलंगकर था उनके पिताजी के बारे में कहा जाता है कि वह पेशे से एक मजदूर थे जो दाभोल बंदरगाह से बाजार तक टोकरियों में मछलियां बेंचकर अपने परिवार की जीविका चलाते थे.रमाबाई अपने तीन भाई-बहनों गोराबाई, मीराबाई और शंकर के साथ दाभोल के पास वालांग गाँव के महापुरा इलाके में रहती थीं। काफी कम उम्र में ही रमाबाई की माँ का स्वर्गवास हो गया था और उनके गुजरने के कुछ साल बाद उनके पिता का भी देहांत हो गया। भाई-बहनों को  उनके चाचा वलंगकर और गोविंदपुरकर ने तत्कालीन बॉम्बे में पाला।  उनके दृढ़ स्वभाव ने उन कठिनाइयों को दूर करने में उनकी मदद की। सामाजिक अन्याय और अत्याचार के बीच उन्होंने अपना सिर ऊंचा रखा और दलितों के उत्थान के लिए डॉ. अम्बेडकर के साथ लड़ते हुए उनके समर्थन और प्रेरणा का स्रोत थीं। 


विवाह और व्यक्तिगत जीवन 

बात 1906 के बम्बई के भायखला बाजार की है जब एक सादी समारोह में भीमराव और रमाबाई पहली बार एक दूसरे से मिले थे, और उसी वक्त उन्होंने एक दूसरे से शादी करने का फैसला किया। विवाह के समय इन दोनों की उम्र काफी कम थी. भीमराव अंबेडकर किशोर थे जबकि रमाबाई महज नौ साल की थीं। अंबेडकर प्यार से उन्हें रामू बुलाते थे, जबकि वह बदले में उन्हें साहेब बुलाती थीं। उनकी शैक्षिक योग्यता में अंतर के बावजूद यह सम्मान और समानता का वैवाहिक बंधन था जिसे हम डॉ. अम्बेडकर के सार्वजनिक जीवन में भी अपनाते हुए देखते हैं। उनके चार पुत्र यशवंत, गंगाधर, रमेश और राजरत्न और एक पुत्री इंदु हुई। हालाँकि, केवल एक पुत्र यशवंत अम्बेडकर किशोरावस्था में जीवित रहा, जबकि अन्य चार बच्चे पैदा होने के कुछ साल में ही मर गए।

अम्बेडकर की प्रेरणा स्तम्भ थी रमाबाई 

इतिहास के महापुरुषों और उनके महान कार्यों का वर्णन करते समय हमें उन्हें पूरा श्रेय और सम्मान देना चाहिए और खासकर उन शख्सियतों को जो विनम्रतापूर्वक उनके लिए शक्ति और प्रेरणा के स्तंभ रहे हैं। अगर रमाबाई अंबेडकर न होतीं तो डॉ. अम्बेडकर का जीवन आज जिस तरह से हम याद करते हैं, वैसा नहीं होता। हमें उनके धैर्य और दृढ़ संकल्प को याद रखना चाहिए, जब डॉ. अंबेडकर विदेश में डॉक्टरेट की डिग्री हासिल कर रहे थे, रमाबाई तत्कालीन ब्रिटिश भारत में घोर गरीबी में अकेली रह रही थीं। डॉ. अम्बेडकर ने जो डिग्रियां अर्जित कीं, वह रमाबाई द्वारा अपने घर में किए गए अपार बलिदानों को दर्शाती हैं। अन्य लोगों द्वारा रमाबाई को अपने पति को अमेरिका जाने से रोकने का सुझाव देने के बावजूद, डॉ. अम्बेडकर पर उनका अत्यधिक विश्वास ही था जिसने विदेश में उनकी शिक्षा को आगे बढ़ाने के लिए उनका समर्थन करते हुए उनकी टिप्पणियों और सुझावों का विरोध किया।


बाकी लोगों द्वारा रमाबाई को अपने पति को अमेरिका जाने से रोकने का सुझाव देने के बावजूद, डॉ. अम्बेडकर पर उनका अटूट विश्वास था. रमाबाई इस बात से पूरी तरह अवगत थी कि अम्बेडकर को भारत के बाहर जाकर पढ़ाई करना कितना जरूरी था उन्हें अम्बेडकर पर भरोसा था की वो लोगों को घर वापस लाने में मदद करेंगे और साथ ही साथ समाज में निचले वर्ग के साथ  हो रहे अन्याय को न्याय दिलाएंगे हालाँकि रमाबाई ने कोई औपचारिक शिक्षा प्राप्त नहीं की, लेकिन इससे उन्हें दलितों की दुर्दशा और उनके साथ हुए अन्याय को समझने में कोई बाधा नहीं हुई। रमाबाई अम्बेडकर हमें न केवल विनम्रता सिखाती हैं बल्कि कठिनाइयों के बावजूद भी दृढ़ता गुण को दोहराती हैं। 

रमाबाई को समर्पित, अम्बेडकर के "पाकिस्तान पर विचार"

डॉ. भीमराव अम्बेडकर की पुस्तक, ' थॉट्स ऑन पाकिस्तान ' 1941 में उनके प्रिय रामू (रमाबाई) की मृत्यु के बाद प्रकाशित हुई थी। उन्होंने कहा कि यह रमाबाई के " हृदय की अच्छाई, उनके मन की अच्छाई और उनके चरित्र की पवित्रता और अम्बेडकर के साथ-साथ उनके द्वारा सामना किए गए दुर्भाग्यपूर्ण समय और उन चिंताओं के लिए भी सराहना का प्रतीक है जो उनके सामने आई थीं।" उन पर,  तीर्थ यात्रा के लिए पंढरपुर जाने की रमाबाई की लंबे समय से इच्छा थी लेकिन दलित जाति से सम्बन्ध होने के कारण उन्हें मंदिर में घुसने की इजाजत नहीं थी इसके चलते डॉ. अम्बेडकर ने अपनी पत्नी को उसके लिए एक नया पंढरपुर बनाने का वादा किया, जिसके कारण उन्होंने हिंदू धर्म को त्याग दिया और बौद्ध धर्म को अपना लिया। रमाबाई अंबेडकर का लंबी बीमारी के बाद 27 मई, 1935 को उनके आवास पर निधन हो गया।

Reeta Tiwari
Reeta Tiwari
रीटा एक समर्पित लेखक है जो किसी भी विषय पर लिखना पसंद करती है। रीटा पॉलिटिक्स, एंटरटेनमेंट, हेल्थ, विदेश, राज्य की खबरों पर एक समान पकड़ रखती हैं। रीटा नेड्रिक न्यूज में बतौर लेखक काम करती है।

Leave a Comment:
Name*
Email*
City*
Comment*
Captcha*     8 + 4 =

No comments found. Be a first comment here!

अन्य

प्रचलित खबरें

© 2022 Nedrick News. All Rights Reserved.